सिंहस्थ महाकुंभ क्षिप्रा तट उज्जयिनी, अद्भुत अलौकिक आनंदौल्लास पूर्ण अकल्पनीय अवर्णननीय महापर्व महोत्सव

essay help 123 https://www.upaya.org/teaching/essay-house-usher/21/ creative writing punctuation sugar bytes thesysВ https://heystamford.com/writing/college-entrance-essay-help/8/ essay check list https://lynchburgartclub.org/cover-letter-medical-assistant-position/ viagra in mexico supply chain management assignment wordpress thesis theme buy generic viagra online canada purchase cialis in usa https://bigsurlandtrust.org/care/use-viagra-side-effect-viagra/20/ super viagra source site dictionary critical thinking follow link essay living with parents get link watch follow url buy diploma frames online best resume writing services uk african american essay http://www.conn29th.org/university/draft-a-paper-with-a-point-and-a-click.htm assignment help in finance a viagra for women how to write a conclusion for a compare and contrast essay example click cheap cialis viagra college thesis wiki conservation of energy resources essay सिंहस्थ महाकुंभ क्षिप्रा तट उज्जयिनी, अद्भुत अलौकिक आनंदौल्लास का महापर्व महोत्सव , एक नए आयाम के साथ संपन्न होने जा रहा हे, लोग जुटते चले कारवाँ बनता गया की तर्ज पर, विश्व का सबसे बड़ा महा आयोजन , जिसमे की भी लोग युगो युगों से धर्म की जय हो, अधर्म का नाश हो, प्राणियों में सद्भावना और विश्व का कल्याण होने की कामना करते , सनातन आस्था विश्वास और असीम श्रद्धा लिए , दुनिया भर से स्व् स्फूर्ति से आते रहे हे , का एक अत्याधुनिक हाईटेक स्वर्णिम इतिहास लिखने जा रहा हे!

img-20160520-wa0013.jpg
संभवतः यह विश्व सभ्यता का अब तक का सबसे बड़ा मानव जमावड़ा भी हे, जो प्रवचन सत्संग अनुष्ठान, साधना उपासना आराधना के साथ ही चिंतन मंथन और मनन समाहित कर विश्व समस्याओ के समाधान के मार्ग , सन्मार्ग की और अग्रसर करने में उत्प्रेरित करते रहे हे, यह स्वयं ही सनातन भारतीय दर्शन का गूढ़ तत्व बताती हे , जो कि अपने आप में शाश्वत सार्थकता लिए हुए हे!
13241356_1205653546134352_2148698747293400587_n
मानव शाश्त्री समाज विज्ञानी भी इसका अपने दृष्टिकोण से शोध अध्धयन करेंगे, इतिहास वेत्ता इसका मूल्यांकन अपने तरह से करेंगे,उज्जयिनी वासी का और विदेशी दोनों के अपने नजरिये हे,
13268383_1205653769467663_8192888237162580316_o
प्रबंध और प्रशासन के इतिहास में मानव सभ्यता का अब तक का सवार्धिक चुनोतिपूर्ण दायित्व रहा हे, विश्व के टॉप प्रोफेशनल टेक्नोक्रैट भी इतनी बड़ी मेगा इवेंट का प्रबंधन का अनुभव सामर्थ्य नहीं रखते, वो कार्य हमारे नेतृत्व , प्रशासन ने सफल कर दिखाया।
13243960_1205654042800969_7793384315246360582_o
इसकी लगातार पैनी समीक्षा , समुदाय द्वारा की गयी, इसकी सफलता लोकतांत्रिक अवधारणा का भी परीक्षण हे, प्रत्येक बिंदु कार्य में जनमानस सीधा जुड़ा रहा, लोगो ने लगातार इसकी गतिविधियों में संव्यवहार रखा, इसकी विषयवस्तू का कोई और उदाहरण नहीं होने से हर मानदंड का मूल्यांकन केवल खुद उसी के अपने माप से ही हो सकता हे, चुनोती को मशीनरी ने मिशनरी मोड पर पूरा किया !
13244146_1205653439467696_4374888346246510981_o
जिसने जिस तरह भी सिंहस्थ मनाया या जिया वो सदा सदा के लिए अविस्मर्णीय है, सभी ने अपनी भूमिका निवाही ही, कौन ऊपर गया कोन नीचे गया , ये सव समय की धारा में विलीन हो जाता हे, जो शेष रहता हे वो हे अमृतत्व, संसार को सनातन धर्म का मानवता के कल्याण का पुनीत दिव्य सन्देश !
13254233_1319827608044781_3321160836683934628_n
बैशाख पूर्णिमा का महा अमृत स्नान में अर्धरात्रि से अर्धरात्रि तक 100 लाख से अधिक तीर्थयात्रियो , भक्तो ने डुबकी लगायी , सिलसिला निरंतर जारी रहा ,
त्रिवेणी से कालियादेह महल से आगे तक जहाँ शिप्रा तीरे घाट थे और जहाँ कोई व्यवस्था नही भी थी , चहुँ और अथाह जन समुद्र, अमृत स्नान कर साक्षात् महादेव ब्रह्मा और विष्णु सहीत समस्त देव शक्तियों, ऋषि मुनिओ के दर्शन कर , समेत स्वयं को धन्य मान रहा था ,
13267990_1185375961481888_6507907275658818279_o
शिव की नगरी उज्जयिनी जेसे और विस्तृत सजीव हो अपने श्रीविशाला, प्रतिकल्पा स्वरूप में आ, अवंतिका नामानुरूप सबका रक्षण संरक्षण करती रही, यही देवभूमि महाकाल की नगरी उज्जयिनी और अमृतमयी मोक्षदायिनी माँ क्षिप्रा की विशेषता हे,सबको महादेव महाकाल के शिवतत्व की प्रत्यक्ष अनुभूति हुयी , प्रकृति के दिव्य मनोरम आनंदमयी स्वरुप के दर्शनों को प्रणाम,
ज्ञान विज्ञानं के साक्षात्कार को प्रणाम !
13244861_1319827624711446_5414791548161479626_n
अमृत मंथन के महापर्व पर होने जा रही, प्रचलित दिव्य पूर्णाहुति की अकल्पनीय अवर्णनीय सफलता की मंगलकामनाये,बधाईया, जय महाकाल !!
DSC_0200
श्री महाकालेश्वर की कृपा से, सिंहस्थ महाकुम्भ क्षिप्रा तट उज्जैन अलौकिक अद्भुत आनंदोल्लास और सनातन दिव्य चैतन्यता विश्व् को प्रदान कर संपन्न हुआ, बधाईया , देव ऋषि साधु संत श्रद्धालु भक्त और अन्यान्य प्राणी सूक्ष्म तत्व, बाबा महाकाल की उज्जयिनी में पुनः पधारे , ॐ पूर्णः मदः पूर्ण मिदं पूर्णात् पूर्णमुदच्यते , पूर्णस्य पूर्णमादाय पूर्ण मेवा वशिष्यते ।।