ऋग्वेद : मनुर्भ‌व – मनुष्य बनो !

https://vaccinateindiana.org/viagra-home-7186/ http://mechajournal.com/alumni/custom-essay-station-creative-solutions/12/ how to remove yahoo mail from iphone 6 custom dissertation chapter editing websites comprare cialis forum dental nursing cover letter https://greenechamber.org/blog/custom-masters-essay-ghostwriting-website-for-college/74/ go narrative essay examples about friendship critical thiningВ viagra high altitude drug 10 page research paper outline viagra online pay with paypal how to write scientific article https://www.dimensionsdance.org/pack/4202-buying-viagra-at-tesco.html thesis sa filipino maagang pagbubuntis enter bank canada career chase job manhattan president resume re go here writing travel articles labeling theory essay here philosophy paper ideas follow site go here https://vaccinateindiana.org/non-perscription-viagra-4091/ buy critical essay writing how to write my common app essay privacy research paper levitra plus efficace que cialis best school essay editing for hire u.s. history and government essay editing websites ऋग्वेद : मनुर्भ‌व – मनुष्य बनो !

1. एकं सद् विप्रा बहुधा वदन्ति | (1|164|46) एकेश्‍वर को विद्वान लोग अनेक प्रकार से पुकारते हैं |
2. स्वस्ति पन्थामनुचरेम | (5|51|15) कल्याण मार्ग का अनुसरण करें |
3. विश्वानि देव सवितर्दुरितानि परासुव | यद् भद्रं तन्न आसुव | (5|85|5) विश्व देव सविता बुराइयां दूर करावें जो कल्याणकारी है, वह प्रदान करें |
4. उप सर्प मातरं भूमिम् | (10|18|10) मातृ भूमि की सेवा करें |
5. सं गच्छध्वम् सं वदध्वम् | (10|181|2) सब साथ चलें सब साथ मिलकर बोलें |

यजुर्वेद : सुमना भव | अच्छे मन वाले बनें !

6. ऋतस्य पथा प्रेत | (7|45) धर्म के मार्ग पर चलें |
7. भद्रं कर्णेभिः श्रृणुयाम | (25|11) मंगलकारी वचन कानों से सुनें |
8. तन्मे मनः शिव संकल्पमस्तु | (34|1) यह मेरा मन शुभ और कल्याणकारी संकल्पों से युक्त हो |
9. मित्रस्य चक्षुषा समीक्षामहे | (36|18) मित्र की दृष्‍टि से सर्वत्र देखें |
10. मा गृधा कस्य स्विद धनम् | (40|1) किसी अन्य के धन का लालच नहीं करें |

सामवेद : सरस्वन्तम् हवामहे | परमेश्‍वर का आवाहन है !

11. अध्व‌रे सत्य धर्माणं कविम् अग्निम् उप स्तुहि | (32) यज्ञ में सत्य धर्मरत कवि अग्नि की स्तुति करें |
12. ऋचा वरेण्यम् अवः यामि | (48) वेद मंत्रों से श्रेष्‍ठ रक्षण मांगता हूँ |
13. मंत्र श्रुत्यं चरामसि | (176) मंत्र श्रुति का हम पालन करते हैं |
14. जीवा ज्योति रशीमहि | (259) सभी जीव परम ज्ञान प्रकाश को प्राप्त करें |
15. यज्ञस्य ज्योतिः प्रियं मधु पवते | (15) यज्ञ की ज्योति प्रिय मधुर भाव उत्पन्न करती रहै |

अथर्ववेद : मानवो मानवम् पातु – मनुष्य मनुष्य का पोषण करे!

16. माता भूमिः पुत्रोSहम् पृथिव्याः | माता भूमि है, पुत्र है हम पृथ्वी के |
17. यज्ञो विश्‍वस्य भुवनस्य नाभिः | (9|10|14) परोपकार परमार्थ कार्यक्रम विश्‍व भुवन का केन्द्र में है |
18. ब्रह्मचर्येण तपसा देवा मृत्युमपाघ्नत | (11|5|19) ब्रह्मचर्य के तप से देवों ने मृत्यु पर विजय अर्थात अमरतत्व योग की प्राप्ति की |
19. मधुमतीं वाचमुदेयम | (16|2|2) मैं सदैव मीठी वाणी बोलूँ |
20. सर्वमेव शमस्तु नः | (19|9|14) हम सभी शान्तिप्रद हो |