वेद के मंत्र

पुरुष एव इदं सर्वं यद् भूतं यच्च भव्यम्।
उतामृतत्वस्य ईशानो यद् अन्नेन अतिरोहति।। पुरुष, ऋक्. 10.90.2>


इस सृष्टि में जो कुछ भी इस समय विद्यमान है, जो अब तक हो चुका है और आगे जो भविष्य में होगा, वह सब पुरुष (परमात्मा) ही है। वह पुरुष उस अमरत्व का भी स्वामी है, जो इस दृश्यमान भौतिक जगत के ऊपर है।
आज का विज्ञान भी मानता है कि इस दृश्यमान जगत के अंदर की सच्चाई इसके ऊपर से दिखने वाले रूप से सर्वथा भिन्न है। जो कुछ हमें दिख रहा है वह केवल अन्नमय जगत है अर्थात जगत का वह रूप है जिसका उपभोग किया जा सकता है, क्योंकि हम संसार के उपभोग में व्यस्त रहते हैं इसलिए हमें जगत का यह दृश्यमान रूप स्वभावत: सच्चा प्रतीत होता है। पर जब हम गहराई में जाते हैं तो ज्ञात होता है कि यह संपूर्ण संसार मूल रूप में चैतन्यस्वरूप परमात्मा की ही अभिव्यक्ति है।
सृष्टि के इस परम चैतन्य को भारतीय परंपरा में मुख्यतया ब्रह्म और पुरुष इन दो नामों से पुकारा गया है। वेदांत में ब्रह्म शब्द प्रधान है (सर्वं खलु इदं ब्रह्म- इस संसार में जो कुछ भी है वह सब ब्रह्म ही है।) सांख्यदर्शन, जो सामान्यतया भारतीय चिंतन का आधार है, उसी परम चैतन्य को पुरुष नाम देता है। (पुरि शेते इति पुरुष:- जो शरीररूपी नगर में शयन कर रहा है, वह पुरुष है।)
मनुष्य के जीवन के मूल तत्व उसके शरीर, मन और विचार आदि नहीं हैं अपितु उसके अंदर उठने वाली विभिन्न प्रकार की अनुभूतियां हैं। सुख, दु:ख, चिंता, भय, आशा, निराशा आदि अनुभूतियां प्रत्येक क्षण मनुष्य के जीवन को नियंत्रित करती हैं। हम प्रयत्न के द्वारा कोई अनुभूति अपने अंदर नहीं जगा सकते। न हम जान-बूझकर क्रोध कर सकते हैं और न प्यार। हम केवल उन अनुभूतियों को जान सकते हैं, जो हमारे अंदर उठ चुकी हैं और फिर विवश होकर हम उन अनुभूतियों के अनुसार कार्य करते हैं।
हमारी सभी अनुभूतियां हमसे परे किसी स्रोत से आती हैं, पर मन के सदा अशांत रहने के कारण हम अपनी अनुभूतियों के स्रोत को जान नहीं पाते। यदि हम ध्यान द्वारा अपने मन को सर्वथा शांत कर सकें तो हम देखेंगे कि हमारी अनुभूतियों और विचारों में एक ही अरूप चैतन्य अभिव्यक्त हो रहा है। वही चैतन्य पुरुष हमारा आंतरिक जीवन भी है और हमारे बाहर का जगत भी।
इदं सर्वं- (सृष्टि में) यह जो कुछ भी इस समय विद्यमान है, यद् भूतं- जो कुछ पहले हो चुका है, यत् च भव्यम्- और जो कुछ भविष्य में होगा, वह सब, पुरुष एव- पुरुष ही है। उत- और, वह पुरुष, यद् अन्नेन अतिरोहति- जो इस अन्नमय अर्थात भौतिक जगत के ऊपर है उस, अमृतत्वस्य- अमरत्व का, ईशान:- स्वामी है।

ॐ भूरिदा भूरि देहिनो, मा दभ्रं भूर्या भर। भूरिरेदिन्द्र दित्ससि। ॐ भूरिदा त्यसि श्रुत: पुरूत्रा शूर वृत्रहन्। आ नो भजस्व राधसि।।´  ऋग्वेद (4/32/20-21)

अर्थात: हे लक्ष्मीपते ! आप दानी हैं, साधारण दानदाता ही नहीं बहुत बड़े दानी हैं।  आप्तजनों से सुना है कि संसार भर से निराश होकर जो याचक आप से प्रार्थना करता है, उसकी पुकार सुनकर उसे आप आर्थिक कष्टों से मुक्त कर देते हैं ,उसकी झोली भर देते हैं। हे भगवान,  मुझे अर्थ संकट से मुक्त कर दो।

इस मंत्र का हर रोज सुबह श्री लक्ष्मीनारायण के सामने दीपक जलाकर जाप करने से संपत्ति से भरी तिजोरी आपके द्वार आएगी।